Motivational Stories

सर्वश्रेष्ठ बनने के तीन सरल और आसन कदम

shikhna-1

अपने क्षेत्र के शीर्षस्थ लोगो में से एक बनने के लिए अनुशासन और मेहनत की सबसे ज्यादा जरुरत होती है। यदि अपने क्षेत्र में अगर आप भी सर्वश्रेष्ठ बनना कहते हो तो तीन बातो पर अमल करना चाहिए। 1. जब आप सुबह उठते हो तो अख़बार या टी. वी. पर समाचार देखने की बजाय सबसे पहले एक काम करे की हर दिन एक घंटे अपने क्षेत्र से सम्बंधित किताबे पढ़े या कोई भी सामग्री पढ़े। 2. कार चलाते समय अपने क्षेत्र का शिक्षाप्रद आडियो प्रोग्राम्स सुने। कुछ देर सुनने के बाद बीच में ही प्रोग्राम को रोक दे, ताकि आप सुनी हुई बातो पर मनन कर सके और सोच सके कि आप उन विचारो पर कैसे अमल कर सकते है। 3. अपने क्षेत्र से सम्बंधित कोर्स और सेमिनार में नियमित रूप से हिस्सा लेते रहे। सुविधाजनक कोर्स करे जिससे आपकी योग्यता बढ़ने के साथ साथ आपको महत्वपूर्ण विचार भी मिलते रहे ,जिनका इस्तमाल करके आप और भी ज्यादा सफल हो सकते है। याद रखो की आप जितना सीखते हो ,आपकी सिखने की क्षमता उतनी ही बढती है। आप जितना सीखते है ,आपका दिमाग उतना ही बेहतर काम करता है और आप उतने ही ज्यादा चालक और चतुर बनते है। आपकी याद रखने और उसको मार्केट… Read More »

क्या हमारी खिड़की भी गन्दी है ?

gandi-khdki-1

एक बार की बात है , एक नौविवाहित जोड़ा किसी किराए के घर में रहने पहुंचा . अगली सुबह , जब वे नाश्ता कर रहे थे , तभी पत्नी ने खिड़की से देखा कि सामने वाली छत पर कुछ कपड़े फैले हैं , – “ लगता है इन लोगों को कपड़े साफ़ करना भी नहीं आता …ज़रा देखो तो कितने मैले लग रहे हैं ? “पति ने उसकी बात सुनी पर अधिक ध्यान नहीं दिया .एक -दो दिन बाद फिर उसी जगह कुछ कपड़े फैले थे . पत्नी ने उन्हें देखते ही अपनी बात दोहरा दी ….” कब सीखेंगे ये लोग की कपड़े कैसे साफ़ करते हैं …!!”पति सुनता रहा पर इस बार भी उसने कुछ नहीं कहा .पर अब तो ये आये दिन की बात हो गयी , जब भी पत्नी कपडे फैले देखती भला -बुरा कहना शुरू हो जाती .लगभग एक महीने बाद वे यूँहीं बैठ कर नाश्ता कर रहे थे . पत्नी ने हमेशा की तरह नजरें उठायीं और सामने वाली छत की तरफ देखा , ” अरे वाह , लगता है इन्हें अकल आ ही गयी …आज तो कपडे बिलकुल साफ़ दिख रहे हैं , ज़रूर किसी ने टोका होगा !”पति बोल , ” नहीं उन्हें किसी ने नहीं टोका .””… Read More »

चार महिलाए…….

char-mahila-1

एक गाँव में एक ऋषि था जिसके पास हर व्यक्ति दीक्षा के लिए जाता था परन्तु वह ऋषि किसी भी महिला को दीक्षा नहीं देता था। …एक दिन चार महिला उसके आश्रम इस नियत से गई की चाहे कुछ भी हो हम उन्ही से दीक्षा लेंगे। जब वे आश्रम पहुची तो उन्हें उस ऋषि के एक शिष्य ने आश्रम के बहार के दरवाजे पर ही रोक दिया और कहा की तुम्हे पता नहीं है की इस आश्रम में महिलाओ का आना भी मना है। । तभी उन महिलाओ ने कहा की हम चोरो ऋषि जी से मिलना चाहते है और हम कसम खा कर आये है की चाहे कुछ भी हो जाये हम उन्ही से दीक्षा लेंगे , ये सुन उस शिष्य ने उन्हें वहा से जाने को कहा परन्तु वो महिलाए किसी भी कीमत पर वह से जाने को तैयार नहीं थी , ये देख शिष्य समस्या को लेकर अपने ऋषि के पास गया और सारी बात बताई। … ऋषि समझ गया की ये ऐसे नहीं जाएँगी। …. उसने कहा की आप लोग दरवाजा लगा दो , वे कुछ देर इंतजार करेंगी और चली जाएँगी , शिष्यों ने वैसा ही किया,…… उस दिन काफी बारिश हो रही थी,……आधी रात को एक शिष्य ने देखा… Read More »

बन्दर तो पहले से ही है

do-bandar-1

जंगल में एक नदी थी और नदी में ही एक पेड़ था, एक बार दो बन्दर उस पेड़ पर बेठे थे तभी आसमान  से अचानक आवाज आई कि…. जो बन्दर, ” नदी के पानी में कूद जायेगा वो वो इन्सान बनकर बहार  निकलेगा ”  तभी एक बन्दर ने,- न सोचा न समझा और छलांग लगा दी। । जब  वह बन्दर पानी से बहार निकला तो दुसरे  बन्दर ने पूछा की यार ये  बता तूने विश्वास कैसे कर लिया की जो भी, जिसने भी कहा वो सच कह रहा है तभी वो कूदने वाला बन्दर बोला की  मैंने सुना और कूद गया। .. अब इसमें विश्वास करने की कौनसी बात है…… अरे भाई  किसी ने कहा की  पानी में कूद जाओगे  तो इन्सान बन जाओगे ,मैं तो इसलिए कूदा  की हो सकता  है की कोई सच  कह रहा हो और मैं इन्सान बन जाऊं वर्ना मेरा क्या गया बन्दर तो पहले से ही था सन्देश – शायद आप लोगो को यकीं हो या ना हो पर बन्दर तो हम पहले से ही है , जो किसी न किसी के इशारों पर नाचते रहते है और अगर ऐसे में हमे आज़ादी का मोका मिलता है तो हम विश्वास  नहीं करते  की ऐसा भी हो सकता है।  याद… Read More »

आपकी बेचने की चाहत,ना खरीदने की चाहत से ज्यादा होनी चाहिए

akbar-1

एक बार बादशाह अकबर के दरबार में उनका साला पंहुचा और भरे दरबार में उनके  साले ने बादशाह अकबर से कहा की आप ने बीरबल को बहुत सर पर चड़ा  रखा है ,आपने  उसको ही क्यों राज-पाट का सारा जिम्मा सोप रखा है , राज दरबार में और भी ऐसे कई लोग मौजूद है जो बीरबल से ज्यादा होशियार और काबिल है , साला होने की वजह से बादशाह उसको कुछ  नहीं कह पाए परन्तु बादशाह ने दरबार में मौजूद  सभी लोगो से पूछा की बताओ किस किस को लगता है की वो बीरबल से जयादा समझदार है?…. किसी ने कोई जवाब नहीं दिया। ।लेकिन बादशाह को लगा की साले को शांत करना भी  जरुरी है क्योकि वो साला है। ….  सारी  दुनिया एक तरफ और जोरू का भी एक तरफ ,…. बादशाह ने साले  से कहा की तुम्हे  क्या लगता है की मैं ऐसे ही बीरबल को होशियार,चालाक और काबिल समझता हूँ। …अगर तुम्हे लगता है की तुम होशियार और समझदार हो तो साबित करो, अगर साबित कर दिया तो कल से इस राज्य के मंत्री तुम। … साला – तो बताओ मुझे साबित करने  के लिए क्या करना होगा ?  बादशाह ने कहा ये कोयले का बोरा  है और इसको तुम्हे एक लाख सोने  की… Read More »

परिवर्तन का शक्तिशाली रहस्य

the-seceret-1

कुछ जिंदगी में पाना कहते हो तो अपने आप को बदलो। …. परिवर्तन जो दुनिया का हर इन्सान चाहता है…. परन्तु आपने अन्दर नहीं सामने वाले के अन्दर , वो शायद इसलिए क्योकि अपने अन्दर परिवर्तन करना हर किसी के बस की बात नहीं ,दोस्तों जब भी मैं परिवर्तन की बात करता हूँ तो लोग परिवर्तन को इस तरह देखते है जैसे की- किसी की बीवी से नहीं बन रही,- तो वह बीवी बदल देता है , किसी की दोस्त से नहीं बन रही – तो वह दोस्त बदल देता है , किसी की मोहल्ले में नहीं बन रही- वो मोहल्ला बदल देता है, किसी की घर में नहीं बन रही- तो वह घर बदल देता है परन्तु हकीकत तो यहाँ है की किसी भी इन्सान को परिवर्तन की शुरुआत उस चेहरे से करनी चाहिए जो उसको रोज आईने में दिखाई देता है…। कही आप के मन में यह तो नहीं आ रहा की परिवर्तन करे क्यों , …ज़ो भी जैसी भी जिंदगी चल रही है चलने क्यों न दे। ।अगर आप लोग अपनी जिंदगी के हाथो मजबूर ही रहना चाहते हो , और कुछ बड़ा करने का सपना अगर नहीं है तो कोई बात नहीं। …… और अगर है , तो दोस्तों किसी भी… Read More »

दादी की हांड़ी

chikan-1

एक व्यक्ति अपने घर में लेटा हुवा था और वो अपनी बीवी को चिकन बनाते देख रहा की उसकी बीवी चिकन के छोटे छोटे टुकड़े करके पकाने वाले बर्तन में डालती जा रही थी , अचानक उसके मन में एक सवाल आया की पुछु चिकन के छोटे छोटे टुकड़े क्यों काट रही है, इसको पूरा की पूरा क्यों नहीं बर्तन में पका लेती , क्या चिकन इस तरह बनाते है, टुकड़े कर कर के और अगर ऐसा बनाते है तो क्यों बनाते है ! …… यह व्यक्ति थोडा घुस्से वाला व जिद्दी पार्वती का व्यक्ति था। …. अब ये सवाल ले कर वो अपनी बीवी के पास पहुच गया और पूछा की ये बताओ की ये चिकन ऐसा ही क्यों बनाते है ? बीवी- कैसा ? पति -ये टुकड़े टुकड़े करके क्यों बनते है ? बीवी – ऐसे ही बनाते है , पति – ऐसे क्यों बनाते है पूरा क्यों नहीं डाल देते बर्तन में , बीवी ने उसकी बातो को अनसुना किया तो उसको घुस्सा आ गया ,बोला की बताना ही पड़ेगा की ऐसा क्यों बनाते है? बीवी ने बात को टालने के लिए कह दिया की मेरी माँ ऐसा बनती थी इसलिए मैं भी ऐसा बनती हूँ। …बिवि ने समझा चलो जान बची… Read More »

गधे का नाम,गधा क्यों रखा है ?

gadhe-ko-gadha-1

क्या आप लोग बता सकते हो की गधे का नाम,गधा क्यों रखा है ? जब मैं ये सवाल किसी से पूछता हूँ तो अक्सर इस तरह से जवाब मिलता है – उसे जैसा कहो वैसा करता है ,खूब बोझ उठता है , बिना सोचे समझे वो काम करता है। …। या फिर कुछ लोग कहते है , ये कैसा सवाल है सर ,संतोष का नाम संतोष क्यों रखा ,अमित क्यों नहीं ! इसका भला क्या जवाब हो सकता है। …। खैर कोई बात नहीं मैं आप को बताता हूँ की गधे का नाम गधा क्यों रखा है। …ग़धे को English में Donkey कहते है, क्यों कहते है यह तो मुझे भी नहीं पता परन्तु उसको हिंदी में गधा कहते है, इसका मतलब मैं जनता हूँ। ग – मतलब गलत धा – मतलब धारणा उसे गलत धारणा होती है आपने बारे में और दुसरो के बारे में भी , इसलिए उसका नाम गधा है। पर गलत धारणा तो हम सब भी रखते है ,अपने बारे में ,… मेरे से नहीं होगा ,मैं ये नहीं कर सकता ,ऐसा होता है क्या ? मेरी किस्मत ही ख़राब है,…….. अक्सर हम लोग गलत धारणा पाल लेते है जैसे ,…….. – १. गाय दूध देती है – दूध देती नहीं… Read More »

जुड़वाँ बच्चे !!

judwa-bacche-1

एक आदमी के यहाँ जुड़वाँ बच्चे हुए ,कुछ समय तक तो सुब कुछ ठीक था , जब बच्चे 6-7 साल के हुवे  तब उस आदमी को लगा की दोनों दिखने में तो एक जैसे है परन्तु स्वभाव दोनों के अलग अलग है , एक हमेशा खुश रहता तो दूसरा हमेशा किसी न किसी बात पर रोता रहता। … उसने मनोवेज्ञानिक से सलाह ली। … मनोवेज्ञानिक ने राय दी की जो बच्चा ज्यादा रोता है उसके लिए महंगा खिलौना ले जाओ और जो ज्यादा खुश रहता है उसके लिए कुछ ऐसा ले जाओ जिससे वो नाराज हो जाये , कुछ देर के लिए ही सही, पर संतुलन तो हो जायेगा !उस आदमी ने रोंदू के लिए रोबोट ख़रीदा ,खुबसूरत पैकिंग करवाई और दुसरे के लिए मिठाई के डब्बे में गोबर रख लिया। …ज़ब वो घर पंहुचा तो पहले रोंदू के पास गए – जैसे ही कमरे में गए तो देखा की वह पहले से हे किसी बात पर रो रहा था। । उसने जैसे ही पिताजी को देखा और पूछा। …क्या है ?-खिलौना , इतना बड़ा ! पहले से ही मेरे कमरे में जगह कम है और आप इतना बड़ा खिलौना ले आये ,क्या है इसमें ? – रोबोट ,दिखाओ -जैसे ही डिब्बा खोल जोर से रोने लगा… Read More »

मरने के बाद आदमी का क्या होता है ?

marne-ke-baad-1

एक सज्जन सेमिनार खत्म होने के बाद मेरे पास आया और बोले – आप से एक सवाल पूछना चाहता हूँ ? मैंने कहा पूछिए , वो बोले सर मरने के बाद आदमी का क्या होता है ? मैं थोडा रूका , उसकी तरफ मुस्कुरा कर देखा और कहा श्री मान आपको नहीं लगता की ये सवाल आप किसी गलत आदमी से पूछ रहे है ,वह बोला -नहीं , मैं ३ घंटे से आपको सुन रहा हूँ और मैं समझता हूँ की आप ही सही जवाब बता सकते है। मैंने कहा श्री मान सबसे पहले तो धन्यवाद् की आप ३ घंटे से मेरा सेमिनार सुन रहे है , परन्तु मरने के बाद आदमी का क्या होता है? ये मैं कैसे बता सकता हूँ ! वह बोला -सर आप ही बता सकते है ,मैंने कहा श्री मान मैं नहीं जानता क्यों की मैं अभी मरा नहीं हूँ उसने कहा सर कैसी बात कर रहे है आप क्यों मजाक कर रहे है ,मुझे पूरा यकीं है की आप जानते है। नहीं भाई मैं बिल्कुल गंभीर हूँ। मगर वो , सर मुझे मालूम है की आप जानते है पर ही डटे रहा। मैंने कहा देखिये सर। …. यदि आप हिन्दू है तो आपका दाह संस्कार कर देंगे और अगर… Read More »