Motivational Stories

अपने विचार को पाले

hallucinogenic_thoughts

आप भी इस दुनिया की सारी खुशियाँ और दौलत प्राप्त कर सकते हो। या ये कहूं कि आप वित्तीय रूप से जो भी हासिल करना चाहते हो वह और उससे भी अधिक हासिल कर सकते हो तो भी मैं सही हूँ। मैं तो सिर्फ इतना जानता हूँ कि कम पैसे पास में रखने से अच्छा है कि अधिक पैसे पास में रखना। और इसे तेजी से हासिल करना धीरे धीरे जमा करने से बेहतर है क्योकि धन- दौलत ही हमारे जीवन में विकल्प बढ़ता है। यही नए प्रकार की आज़ादी दिलाता है और गरीबी की गुलामी का अंत करता है। मैं नहीं समझता कि मेरी इन बातो से कोई असहमत होगा। परन्तु सभी के दिमाग में ये प्रश्न जरुर आ रहे होंगे कि ” हम इसे कैसे हासिल करे ?” ” खुशहाली का प्रारम्भ कहा से होता है ?” “इसकी सुरुआत कैसे खोजे ?” लेकिन दोस्तों हम सभी जानते है कि ये सब हमे हासिल करना है तो सुरुआत तो करना ही पड़ेगी, परन्तु कहा से ? उत्तर सीधा है। वैभव एक विचार से प्रारम्भ होता है। सबसे पहले आप इस बात से आश्वस्त हो जाइए कि यह दुनिया में आप के लिए भी उपलब्ध है , इसे हासिल करने के लिए आप स्वयं के… Read More »

आपके अंदर आग होनी चाहिए

o-GEORGIA-FIRE-facebook

दोस्तों आज मैं आपको एक ऐसी बात बताने जा रहा हूँ जिसे अगर आपने, अपना लिया तो निश्चित ही आपकी जिंदगी में भी वह सब कुछ होगा जो मेरी जिंदगी में है। आप भी वह सब पा सकोगे जो मैंने पाया है। आइये देखे   ऐसी कौन सी बात है जिसे मैं इतना महत्त्व दे रहा हूँ। वो है ” आग ” हां आग… आग- जिंदगी में कुछ कर गुजरने की , आग- दुनिया में आपने आपको साबित करने की , आग – वो सब कुछ पाने कि जो हम पाना चाहते है , वही आग – जो मेरे अंदर है और उन लोगो के अंदर है जिन्होंने कामियाबी पाई है। मेरा मानना है कि” शांत आदमी मुर्दे के सामान होता है और मुर्दा कितना भी खूबसूरत क्यों न हो उसके पास कोई भी ज्यादा देर बेठ नहीं सकता ” आप जब तक अपने जीवन में आग पैदा नहीं करोगे तब तक कामियाबी मिलना बहुत दूर कि बात है। याद रखो कि जिस तरह रॉकेट के पीछे आग लगते ही वह ऊचाइयों को, आसानी से छू लेता है ……उसी प्रकार जब तक आप के अंदर वह आग नहीं होगी तब तक आपके ऊचाइयों पर पहुचने के सपने , सिर्फ सपने ही रहेंगे हक़ीक़त नहीं बन पाएंगे। अगर एक बार… Read More »

पैसा अपने आप ही आता है

money2

अगर आप ढेर सारा पैसा बना चाहते हो तो ढेर सारा पैसा बनाने का मंत्र है कि आप पैसो को कभी भी अपना लक्ष्य न बनाए। हो सकता है कि आप को ये झूट लगे परन्तु मेरा ये सत्य कुछ सामान्य सच्चाइयो पर आधारित है। आप अपने सफ़र कि सुरुआत कुछ नया करने या फिर जो सामान आपके पास बेचने के लिए उपलब्ध है या कोई सेवा जो आप दे रहे है उनकी गुणवत्ता को सुधारने कि तीव्र इच्छा से कीजिए। किसी भी स्तर पर पैसा आपकी सोच में भी नहीं आना चाहिए। सारा ध्यान अपनी गुणवत्ता बढ़ने में और व्यापार को बढ़ाने में हो ,अब ऐसा हो जाएगा तो पैसा अपने आप ही आने लगेगा। जब आपके सामान और सेवाओ कि गुणवत्ता अच्छी होती है तो आपके ग्राहको का विश्वास बढ़ता है। जिससे आपकी कंपनी का विकास होगा। दुनिया में कुछ लोग ऐसे भी है जो सिर्फ अपना सामन बेचने में लगे होते है वे ये नहीं देखते कि क्या वह गुणवत्ता वाला सामान है या लोगो को उसकी जरुरत है या नहीं ? बस उनका एक ही लक्ष्य होता है कि पैसा कैसे बनाया जाए और ऐसे लोगो के ग्राहको को जल्दी ही उनकी असलियत का पता लग जाता है। और अगर एक… Read More »

बड़ा सोचो और बड़ा मांगो

real-man2

इंसान को अपनी सोच और सपनो को हमेशा बड़े रखना चाहिए। मैं अक्सर सेमिनार और मीटिंग में एक ही बात को दोहराता और वही बात मैं आप से भी कहना चाहता हूँ कि अगर मैं सोचता हूँ कि मैं महीने का 10 लाख रूपए कमाऊं तो ये मुमकिन है कि हो सकता है, मैं 10 लाख रूपए न कमा पाऊं मगर 7 लाख , 5 लाख , 4 लाख तो कमा ही पाउँगा। और अगर वही पर मैं ये सोचता हूँ कि मैं महीने का 20  हज़ार रूपए कमा लूँ तो बहुत है , तो हो सकता है कि मैं 20 हज़ार महीने का कमा लूँ ।मगर ये बात पक्की है कि मैं किसी भी महीने 20 हज़ार से ऊपर नहीं कमा पाउँगा। क्योकि मैंने सोचा ही 20 हज़ार का था। अक्सर मैंने देखा है कि हम लोगो कि सोच इतनी छोटी है कि बड़ा करने या सोचने कि हिम्मत ही नहीं जुटा पाते और इसी वजह से हम भगवान् से भी उतना ही मांगते है जितने कि जरुरत होती है या जितनी हमारी मांगने कि औकात हम समझते है। मैंने लोगो को अक्सर यही मागते हुए देखा है कि हे भगवान् 10-15 हज़ार कि नौकरी मिल जाये कुछ ऐसा कर दो , हे भगवान्… Read More »

जीत से पहले ही ,जीत की घोषणा करे

Aliliston

मोहम्मद अली मुक्केबाज़ी के इतिहास के सर्वोत्तम मुक्केबाज़ों में से एक था। परन्तु इतनी प्रसिध्दि पाने से पहले ,संपूर्ण विश्व में अपने नाम व चेहरे की  पहचान बनाने से पहले, वह भी संघर्षरत व जुझारू लड़का था। जो अपने आपको साबित करने के लिए प्रयासरत था। जैसा कि मैंने कही पढ़ा था कि मोहम्मद अली ने एक मैच से पहले समाचार पत्रो के जरिए कहा था। जो केवल तीन शब्द थे कि ” आई एम् द ग्रेटेस्ट ” ये शब्द अली ने अपने सबसे बड़े पहले मैच के, पहले कहे थे। जो की सोनी लिस्टन से था । ये बात सुनकर सभी लोगो ने और पत्रकारो ने इस नौसिखिए के बड़बोलेपन की खूब हसी उड़ाई थी , परन्तु जब वह जीता तो सभी उसकी तरफ ध्यान देने लगे क्योकि वह ना केवल जीता था बल्कि उसने मैच से पहले भविष्यवाणी भी कर दी थी। इस मैच के बाद अली विश्व भ्रमण को निकल गया और अपने वाक्यो को हर जगह दोहराता गया कि ” मैं सबसे महान हूँ ” , इतना ही नहीं वह हर मैच के पहले ही बता देता था कि वह अपने विरोधी को किस राउंड में ध्वस्त कर देगा। एक या दो अपवादों को छोड़ कर, वो हमेशा ही सही साबित होता था। वह ऐसा कैसे… Read More »

मैं नहीं,आपका विश्वास समाधान है

faith

मुझे रोज कोई न कोई कहता है सर आपकी बातो से मेरी जिंदगी बदली है। जब वे ऐसा कहते है तो मुझे ख़ुशी होती है कि मैं एक और व्यक्ति की जिंदगी बदलने में कामियाब हुवा। क्योकि मेरा सपना और मकसद यही होता है की मेरी कही हुई बाते और उनको दिखाया गया रास्ता 100 प्रतिशत सही हो ताकि जो व्यक्ति मुझ पर इतना विश्वास कर रहा है उसको मेरे बताये गए रास्ते पर चल कर कमियाबी मिले। लेकिन अपनी समस्याओ का अगर वी समाधान कहते हो तो मैं विश्वास से जुड़ी एक पसंदीदा कहानी सुनाता हूँ। एक महिला थी जो नदी पार करना चाहती थी और उसके गुरु ने उससे कहा था कि वह पानी पर चल सकती है। गुरु के प्रति उसका विश्वास इतना अटूट था की वह आश्वस्त थी कि वह ऐसा कर सकती है। तो पुरे विश्वास के साथ वो बढ़ी और नदी पार कर गई। उसके गुरु ऐसा करने से बड़े प्रभावित हुए परन्तु उनका एक दूसरा शिष्य था जिसे यही बात उसी गुरु ने कही थी। मगर वह संदेही था इसलिए ऐसा नहीं कर पता था। मतलूब बिलकुल साफ़ है। आपका दिमाग चमत्कार कर सकता है। मगर आपका विश्वास 100 प्रतिशत होना चाहिए। यदि आपका विश्वास 99.99 प्रतिशत भी… Read More »

अपना- अपना नजरिया

stone)

तीन व्यक्ति असमान की और पत्थर फेक रहे थे। किसी ने उनसे पूछा  की यह क्या कर रहे हो?  तब पहले व्यक्ति ने जवाब दिया की पत्थर की ऊचाई पर फेंककर मालूम करना चाहता  हूँ कि  मेरे बाजुओं में कितना दम है।  जब यही प्रश्न दुसरे व्यक्ति से पूछा  तो उसने जवाब दिया की पत्थर के आकार एवं भार  के बारे में मालूम करना चाहता हूँ कि  किस प्रकार का पत्थर ऊपर फेंकने पर  अधिक ऊचाई तय करता है। और जब  तीसरे व्यक्ति से पूछा गया तो उसने बताया की  पत्थर की फेंककर प्रथ्वी के गुरुत्वाकर्षण के नियम की शक्ति को जांचने की कोशिश कर रहा हूँ।  यहाँ तीनो व्यक्तियों के कार्य तो एक है किंतु वह तीनो का मकसद अलग -अलग था और परिणाम भी अलग अलग पा रहे थे। तीनो को  भिन्न-भिन्न परिणाम केवल भिन्न भिन्न सोच से मिलते है।  ठीक इसी प्रकार दुनिया में बहुत से व्यक्ति कार्य तो एक ही करते है परन्तु सोच और उनके नजरिए अलग-अलग होने की वजह से ,उनको परिणाम भी अलग अलग प्राप्त होते है।

सकारात्मक तस्वीर बनाए

image6

मेरा मानना है की जो व्यक्ति खुद मानसिक कल्पना करते समय असफल होने की बजाय सफल होने की तस्वीर देखता है , वह अपने लक्ष्य को आसानी से पा लेता है। और उससे भी महत्वपूर्ण बात यह है की वह व्यक्ति उस काम में सफलता पाने के लिए हर कीमत को चुकाने का इच्छुक रहता है। मानसिक तस्वीर बहुत ही महत्वपूर्ण होती है, क्योकि हमारे भविष्य का हमारी आत्म-छवि से गहरा संबंध होता है। हम अपने बारे में जो भी सोचते है ,जो भी तस्वीर देखते है और जो भी कल्पना करते है , काफी हद तक हम भविष्य में वैसे ही बन जाते है। इस बात को मैंने बड़ी ही गहराई से समझा है शायद आप को भी समझ आ जाये। मैंने एक कहानी पड़ी थी जिसने मुझे यह समझाया की काम की सफलता ९९ प्रतिशत, उसकी आत्म-छवि और कल्पना पर निर्भर करती है। एक मशहूर जिमनास्ट के कई युवा स्टूडेंट थे , जिनमे स्टार बन्ने की महत्वकांक्षा  थी। एक दिन सभी स्टूडेंट ने कम खतरनाक करतब आराम से कर दिए। फिर ऊची छड़ पर चलने की बरी आई। एक को छोड़ कर बाकि सुभी ने ये काम संतोषजनक तरीके से कर लिया। लेकिन छड़ की तरफ देखते ही आखरी उम्मीदवार के मन में नकारात्मक… Read More »

आप वह जाने, जो कोई और न जानता हो ।

मेरे साथ एक आनंद नाम का व्यक्ति कार्य करता था। उसे भी उतनी ही इंग्लिश आती थी ,जितनी हम सभी को। लेकिन , उसने उस समय इसमें ऐसी संभावना देखी ,जिसे हम दुसरे कोई नहीं देख पाए। उसने इंग्लिश भाषा में महारत हासिल करने का संकल्प लिया। इसके लिए वह इंग्लिश क्लास गया , इंग्लिश मूवी देखने की आदत डाली ,इंग्लिश रिकार्ड्स सुनता रहता था और इंग्लिश किताबे और उपन्यास ही पड़ता था। देखते ही देखते फर्राटेदार इंग्लिश बोलने लगा और उसका विशेषज्ञ बन गया। जब भी उससे कोई इंग्लिश में बात करता तो वह मान लेता की यह इंडिया में पैदा नहीं हुआ होगा क्यों की उसकी इंग्लिश इतनी बढ़िया थी जितनी की शायद अमेरिका में भी कोई नहीं बोल पाता होगा यह अंदाजा बिलकुल सटीक था की कोई भी बहार की बड़ी कंपनी जब भी कॉलेज में कदम रखेगी तो उसका इंग्लिश का ज्ञान वाले लोग मूल्यवान होगे। कुछ लोग यह नहीं जानते थे और कुछ जानते थे परन्तु उन्होंने इसके लिए कोई कदम नहीं उठाया। याद रखो दुसरे लोग जो नहीं जानते है , उसे जानना आपके लिए फायदे मंद होता है और आपको हमेशा सिर्फ लाभ की ही तो तलाश रहती है। आनंद ने यह काम यह काम भाषा के साथ किया ,उसने एक खास… Read More »

क्या आप भी अपने हालातो से परेशान है ?

aadmi-1

अमेरिका की बात हैं, एक युवक को व्यापार में बहुत नुकसान उठाना पड़ा. उसपर बहुत कर्ज चढ़ गया, तमाम जमीन जायदाद गिरवी रखना पड़ी। दोस्तों ने भी मुंह फेर लिया, जाहिर हैं वह बहुत हताश था. कही से कोई राह नहीं सूझ रही थी।आशा की कोई किरण दिखाई न देती थी। एक दिन वह एक पार्क में बैठा अपनी परिस्थितियो पर चिंता कर रहा था. तभी एक बुजुर्ग वहां पहुंचे. कपड़ो से और चेहरे से वे काफी अमीर लग रहे थे। बुजुर्ग ने चिंता का कारण पूछा तो उसने अपनी सारी कहानी बता दी. बुजुर्ग बोले -” चिंता मत करो. मेरा नाम जॉन डी . रोक्केफेलर है। मैं तुम्हे नहीं जानता,पर तुम मुझे सच्चे और ईमानदार लग रहे हो इसलिए मैं तुम्हे दस लाख डॉलर का कर्ज देने को तैयार हूँ।” फिर जेब से चेक बुक निकाल कर उन्होंने रकम दर्ज की और उस व्यक्ति को देते हुए बोले, ”नौजवान, आज से ठीक एक साल बाद हम ठीक इसी जगह मिलेंगे. तब तुम मेरा कर्ज चुका देना।” इतना कहकर वो चले गए । युवक अचंभित था ! रोक्केफेलर तब अमेरिका के सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक थे, युवक को तो भरोसा ही नहीं हो रहा था की उसकी लगभग सारी मुश्किल हल हो गयी,… Read More »