All posts by arif khan

Sandeep Maheshwari inspirational story in Hindi

Sandeep Maheshwari inspirational story in Hindi

दिल्ली का एक Middle class लड़का, किराए के दो कमरे के छोटे से मकान में रहता था, जब बहुत छोटा था तब पड़ोस के एक बच्चे के पास लाल साइकिल देखकर मन मचल गया, पिता से साइकिल दिलाने की जिद्द की; जवाब आया “ मैं कोई टाटा–बिड़ला नहीं हूँ जो इसकी सारी फ़रमाइशें पूरी करता रहूँ।” माँ से पूछा, “ ये टाटा-बिड़ला क्या होता है?” “ये ऐसे लोग होते हैं जिनके पास ढेर सारे पैसे होते हैं।”, माँ ने पीछा छुड़ाते हुए कहा। बच्चे ने फैसला किया कि वो बड़ा होकर “टाटा-बिड़ला” बनेगा। मगर लोग उसका मजाक उड़ाने लगे, जोकि ज्यादातर हम लोगो में से ऐसा करते है । जब जब वह लड़का 15-16 साल का हुआ तब उनके परिवार पर एक बड़ी मुसीबत आ गयी, उनके पिता का 20 साल पुराना Aluminium  का Business था, Partner  से हुई कुछ अनबन की वजह से उन्हें वो Business  छोड़ना पड़ा।ये एक बड़ा संकट था, जब पैसा कम होता है तो परेशानियाँ अधिक हो जाती हैं। वह लड़का और उसका पूरा परिवार ऐसी तमाम मुसीबतो से जूझ रहा था। । पिताजी भी depression में रहने लगे। उस लड़के को लगा  कि उसे  कुछ करना चाहिए, वो परिवार के साथ मिल कर छोटे-मोटे काम करने लगा — माँ ने खजूर के पान बनाये, जिन्हें उस लड़के… Read More »