जो होता है वो अच्छे के लिए। Akbar and Birbal

akbar and birbal motivational story ,akbar and birbal motivational stories ,akbar and birbal inspirational story ,akbar and birbal inspirational stoies

Birbal  हमेशा एक बात कहते थे की जो होता है वो अच्छे के लिए होता है।  और बादशाह Akbar उनकी इस बात को हमेशा गलत ठहराते थे।
एक दिन तलवार को संभालते समय , बादशाह Akbar  की एक उंगली कट गयी।  Birbal ने तुरंत बादशाह  से कहा – ” चिंता न करे , जो होता है उसके पीछे कोई कारण होता है और वह कारण अच्छे के लिए होता है।
बढ़ह Akbar इस बात से क्रोधित हो गए और Birbal  को को जेल में डाल दिया।
बादशाह ने उंगली में पट्टी बंधी और कुछ बाद मन बहलाने के लिए जंगल में शिकार के लिए चल दिए।  और वह वे अपने शिकार दल से बिछड़ गए।  जब वह जंगल में भटक गए तब कुछ जंगली आदिवासियों  ने उन्हें घेर लिया , बादशाह को पकड़ कर वे उनकी बलि देना चाहते थे। बादशाह को बलि के बकरे की तरह वे उन्हें बांधकर मंदिर तक ले कर आए। मंदिर के पुजारी ने जब बलि देने के पहले बलि का निरीक्षण किया।  कि यह मानव बलि देने लायक है या नहीं ? तभी पुजारी ने कहा की यह बलि देने लायक नहीं है क्योकि इसकी उंगली गायब है।  यह जानकर बादशाह को छोड़ दिया गया।
महल पहुंच कर बादशाह ने भगवान को अपनी उंगली काटने का धन्यवाद किया जिसके कारण उनका जीवन बच गया और फिर वे जेल में Birbal से मिलने पहुंचे।
Birbal , तुम्हे जेल में डालने के लिए माफ़ी चाहता हूँ , अब मैं समझ गया हूँ कि उंगली कटना मेरे लिए किस प्रकार अच्छा है। लेकिन मुझे ये बताओ की भगवान ने तुम्हे जेल में क्यों डालने दिया और यह तुम्हारे लिए कैसे अच्छा है ?
Birbal ने जवाब दिया -” जहांपनाह , अगर मैं जेल में नहीं होता तो आप मुझे शिकार पर ले जाते और वे जंगली आदिवासी आपको तो छोड़ देते पर मेरी बलि चढ़ा देते ”
दोस्तों  भगवान जिंदगी में हर व्यक्ति के साथ बुरा और भला  करते रहते है।  याद रखो की हम इंसान है और भगवान द्वारा किये गए निर्णय को हम नहीं समझ सकते की वो क्या चाहता है और क्यों हमारे साथ ऐसा कर रहा है।  बस इतना याद रखो कि जिस प्रकार  कोई पिता अपने पुत्र के साथ बुरा नहीं कर सकता वैसे  ही भगवान जिसकी हम सभी संतान है वो क्यों बुरा करेगा। इसीलिए मुसीबत और मुश्किलो में ज्यादा परेशान न होकर उनका हल तलाश करे न की रोते रहे कि मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है। क्योकि जो भी  होता  है वो अच्छे के लिए होता है।