जैसे आप, वैसी दुनिया। A inspirational story

http://winconfirm.com/category/motivational-stories-inspirational-stories/, succes story stories on life , story of the day

यह एक बुद्धिमान व्यक्ति की कहानी है। यह व्यक्ति एक दिन अपने गाँव के बहार बैठा कुछ सोच रहा था। तभी एक व्यक्ति वह से गुजरा और उसने उस व्यक्ति से पूछा ” इस गाँव में किस तरह के लोग रहते है ?” उस बुद्धिमान व्यक्ति को अजीब सवाल लगा। उसने कहा – आखिर तुम ऐसा क्यों पूछ रहे हो ? , क्यकि मैं अपना गाँव छोड़कर इस गाँव में बसने की सोच रहा हूँ। बुद्धिमान व्यक्ति ने उससे पूंछा कि भाई पहले एक बात मुझे बताओ कि” तुम जिस गाँव में रहते हो वह कैसे लोग रहते है ?” उस आदमी ने कहा – वे सब मतलबी, घृणा करने वाले , निर्दयी लोग है और कभी कोई किसी की मदद नहीं करता । बुद्धिमान व्यक्ति ने जवाब दिया – इस गाँव में भी ऐसे हे लोग रहते है। इतना सुन वह व्यक्ति वह से चला गया। कुछ देर बाद वहा दूसरा व्यक्ति आया, और रुक कर उसने भी वही सवाल किया। बुद्धिमान व्यक्ति ने उससे भी वही सवाल किया कि ” तुम जिस गाँव को छोड़ना चाहते हो वह कैसे लोग रहते है ?” उस व्यक्ति ने जवाब दिया -” वहा के लोग बड़े हे विनम्र , दयालु और एक दूसरे की मदद करने वाले है ” तभी उस बुद्धिमान व्यक्ति ने जवाब दिया और कहा कि यहाँ भी तुम्हे ऐसे हे लोग मिलेंगे।
आमतौर पर हम दुनिया को उस तरह नहीं देखते जैसे की वह है , बल्कि उस तरह देखते है जैसे की हम है। ज्यादातर लोगो का व्यवहार हमारे हो व्यवहार का आईना होता है। अगर हम अच्छे है तो दुनिया अच्छी है और अगर हम बुरे है तो दुनिया बुरी है। दोष दुसरो में नहीं , खुद में है। अक्सर हम दुनिया को बदलने की बात करते है अगर कोशिश कर खुद को बदल ले तो दुनिया अपने आप हे बदल जाएगी। ताउम्र हम लोगो में दोष देखते रहते है मगर अपने दोषो को ख़त्म करने की चिंता तक नहीं करते।