असली राजा – Akbar Birbal inspirational story

akbar and birbal motivational story ,akbar and birbal motivational stories ,akbar and birbal inspirational story ,akbar and birbal inspirational stoies

मिस्र के राजा ने बीरबल की बुद्धिमानी के बारे में बहुत उन रखा था और वह उसकी परीक्षा लेना चाहता था।
राजा ने बादशाह अकबर से आग्रह किया की बीरबल से वह मिलना चाहते है। उन्होंने अकबर से बीरबल को अपने यहाँ भेजने को कहा।
जब बीरबल मिस्र पहुंचे।  जब वे दरबार में राजा से मिलने दरबार पहुंचे तो देखा पांच एक जैसे राजा , राजसी  पोशाक व् गहने पहने हुए सिहांसन पर अलग अलग बैठे है।
बीरबल एक पल अचम्भे में पढ़ गए।  कुछ सोच विचर करने के बाद ध्यान से सभी को देखा और फिर एक राजा के सामने जाकर बोले,” बादशाह, आपकी उम्र लम्बी हो”
राजा – तुमने कैसे पहचाना की मैं ही असली राजा हूँ ?
बीरबल बोले – जहांपनाह , बाकीं सभी आपको देख रहे थे और आपकी नक़ल करने की कोशिश कर रहे थे।  जबकि आप शांत और बेफिक्र होकर बैठे  थे।  तभी मैंने अंदाजा लगाया कि आप ही असली राजा है।
दोस्तों याद रखो की किसी की नक़ल करना और दुसरो के जैसा बना छोड़ दो क्योकि आप कितनी भी अच्छी नक़ल करो लेकिन उस असली वास्तु या व्यक्ति जितने स्तर तक नहीं पहुँच सकते इसलिए खुद को ऐसा बनाने की कोशिश करो कि लोग आपकी नक़ल करे।

Note– कोई भी  Motivational story,inspirational story  आप को सिर्फ बता सकती है की क्या करना है , कैसे करना है , क्यों करना है और क्या फायदा होगा  लेकिन  उसे जीवन में उतारना आपके आपने हाथ में है और जब  तक आप इसे जीवन में नहीं उतरोगे तब तक इसका कोई फायदा नहीं और इसे पढ़ना व्यर्थ है।